आपके गलतियों का प्रायश्चित करने के लिए ये 10 माफ़ी शायरियां

खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो... दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो... देर हो गयी याद करने में जरूर... लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल मिटा दो...

5.

तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,

तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी,

क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर,

जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी।

6.

Advertisment

हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,

कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,

हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,

पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये।